वार्षिक परीक्षाओं में किसी भी हालत में नकल न हो , जिम्मेदार होंगा जिला प्रशासन क्षेत्रीय प्रशासन नकल रोकने सशक्तिकरण देखे-श्रीमतिशमी
February 3, 2020 • M.S.Bishotiya
प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा ने अधिकारियों को वीडियो कॉन्फ्रेंस में दिए निर्देश

 
डबरा।  ग्वालियर स्कूल शिक्षा विभाग की प्रमुख सचिव श्रीमती रश्मि अरूण शमी ने स्कूल शिक्षा विभाग की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा करते हुए प्रदेश के सभी जिला कलेक्टरों, जिला पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जिला शिक्षा अधिकारी और डीपीसी को निर्देश दिए कि शीघ्र ही वार्षिक परीक्षायें शुरू होने वाली हैं। यह सुनिश्चित करें कि किसी भी स्थिति में परीक्षाओं में नकल न हो।
    श्रीमती रश्मि अरूण शमी ने निर्देश देते हुए कहा कि ऐसे छात्र-छात्राएं जो कक्षा में कमजोर हैं उन छात्र-छात्राओं के लिए विशेष कक्षायें आयोजित करें। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से स्कूल शिक्षा विभाग की आयुक्त श्रीमती जयश्री कियावत, मिशन संचालक श्रीमती आइरिन सिंधिया जेपी ने भी आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।
        एनआईसी ग्वालियर के वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कक्ष में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान कलेक्टर श्री अनुराग चौधरी, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री शिवम वर्मा, शिक्षा विभाग के अधिकारीगण आदि उपस्थित थे।
        प्रमुख सचिव ने सभी कलेक्टरों को कक्षा-10वीं व 12वीं की कक्षाओं के परीक्षा परिणाम बेहतर रहें, इसके लिए शिक्षा विभाग के अधिकारियों एवं स्कूलों के प्राचार्यों की निरंतर समीक्षा करें। उन्होंने कहा कि ऐसे विद्यालय जिनका कक्षा-10वीं एवं 12वीं की प्री-बोर्ड एवं अर्द्धवार्षिक परीक्षा परिणाम 55 प्रतिशत से कम रहा है उन जिलों को विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। प्रत्येक शिक्षक के परीक्षा परिणाम की भी समीक्षा की जाए। कमजोर प्रोग्रेस होने पर संबंधित शिक्षक के विरूद्ध कार्रवाई करें।
        आयुक्त श्री जयश्री कियावत ने शिक्षा के अधिकार अधिनियम के तहत 2016-17 में अध्ययनरत बच्चों की फीस आपूर्ति की समीक्षा कर प्रत्येक ब्लॉक के आधार केन्द्र की भी जानकारी ली। उन्होंने बताया कि सभी स्कूलों में उमंग हैल्पलाइन संचालित की गई है।  14425 टोलफ्री नम्बर हैल्पलाइन पर छात्र-छात्राओं को परीक्षाओं के दौरान आने वाली परेशानियों का निदान छात्र-छात्राओं को विशेषज्ञों द्वारा किया जा सकेगा। उन्होंने बताया कि “छू ले आसमान” एवं कक्षा 12वीं के MPASPIRE पोर्टल भी लाँच किया गया है।
    मिशन संचालक श्रीमती आइरिन सिंधिया जेपी ने हाजिरी अटेंडेंस सिस्टम कक्षा-5 व 8वीं की वार्षिक परीक्षाओं की तैयारियों की समीक्षा करते हुए कहा कि पुराने स्वीकृत निर्माण कार्य जो किसी कारण से शुरू नहीं हुए हैं, उनकी राशि समर्पित करें।
    व्ही.सी. के दौरान कलेक्टर श्री अनुराग चौधरी ने जिला शिक्षा अधिकारी एवं डीपीसी को निर्देश दिए कि वे 8 – 8 स्कूलों का एवं अन्य अधिकारियों द्वारा 4 – 4 स्कूलों का सत्यापन करें। उन्होंने जिला शिक्षा अधिकारी एवं डीपीसी को निर्देश दिए कि जिला मुख्यालय में पदस्थ शिक्षकों के कार्य की भी समीक्षा कर स्वीकृत पदों से अधिक पदस्थ शिक्षकों की उन विद्यालयों में पदस्थापना की कार्रवाई करें, जहां शिक्षक कम हैं