सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल के सभी कार्य एक माह में पूर्ण किए जाएं – संभाग आयुक्त श्री ओझा
January 3, 2020 • M.S.Bishotiya
 
सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल में रेफर होकर आए मरीजों से ओपीडी शुल्क 30 रूपए लिया जायेगा
ग्वालियर | ग्वालियर में स्वास्थ्य सेवाओं की बेहतर व्यवस्थाओं के लिए केन्द्र सरकार एवं प्रदेश सरकार के सहयोग से सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल के निर्माण का कार्य अंतिम चरण में है। अस्पताल के शेष रहे सभी कार्यों को एक माह में पूर्ण करने के निर्देश संभागीय आयुक्त श्री एम बी ओझा ने दिए हैं। संभाग आयुक्त श्री एम बी ओझा ने शुक्रवार को सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल का निरीक्षण किया। चिकित्सकों और निर्माण एजेन्सी के लोगों से चर्चा कर निर्माण के शेष कार्य को शीघ्र पूर्ण करने के निर्देश दिए।संभागीय आयुक्त श्री एम बी ओझा ने सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल की व्यवस्थाओं के संबंध में भी विस्तार से चर्चा कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए हैं। इस मौके पर डीन मेडीकल कॉलेज डॉ. सरोज कोठारी, एडीएम श्री किशोर कान्याल, प्रभारी अधीक्षक डॉ. के के तिवारी, अधीक्षक सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल डॉ. गिरिजा शंकर गुप्ता, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मृदुल सक्सेना, सहायक अधीक्षक डॉ. विनीत चतुर्वेदी, निर्माण एजेन्सी, एचएससीसी के सिविल वर्क कांट्रेक्टर श्री अनिल पाण्डे उपस्थित थे। संभागीय आयुक्त श्री एम बी ओझा ने बैठक के दौरान कहा कि अस्पताल में फिनिशिंग के जो भी कार्य शेष बचे हैं उन्हें शीघ्र पूर्ण किया जाए। उन्होंने उपकरणों की स्थापना तथा स्टाफ की नियुक्ति और दुकानों के निर्माण के संबंध में भी विस्तार से चर्चा की। संभागीय आयुक्त श्री एम बी ओझा ने बैठक में कहा कि सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों के लिए ओपीडी शुल्क 50 रूपए‍ निर्धारित किया गया है। अन्य अस्पतालों से रेफर होकर आने वाले मरीजों के लिए यह शुल्क 30 रूपए किया जाए। इसके साथ ही गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले मरीजों और आयुष्मान योजना के अंतर्गत आने वाले मरीजों के लिए यह नि:शुल्क रखा जाए। सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल में सीधे आने वाले मरीजों के लिए ओपीडी शुल्क 50 रूपए की रखा जाए।
    संभागीय आयुक्त श्री एम बी ओझा ने बैठक में यह भी कहा कि सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल में एक्सरे का शुल्क 20 रूपए ही रखा जाए। उन्होंने कहा कि माधव डिस्पेंसरी में नि:शुल्क एक्सरे की सुविधा होने पर यह देखा गया है कि 2 हजार से अधिक लोगों ने एक्सरे कराने के बाद अपनी रिपोर्ट भी प्राप्त नहीं की है। इसको देखते हुए सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल में एक्सरे की दर 20 रूपए ही रखी जाना तय किया गया है। उन्होंने बैठक में सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल की सुरक्षा के लिए 30 सुरक्षा गार्ड को रखने की सहमति भी प्रदान की। इसके साथ ही पार्किंग व्यवस्था को और बेहतर करने के निर्देश दिए। बैठक में सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल के पीछे की साईट निर्माणाधीन नाले का कार्य स्मार्ट सिटी के माध्यम से किया जाना है। इसके लिए सीईओ स्मार्ट सिटी को कार्य तत्परता से कराने के निर्देश जारी करने को कहा। बैठक में सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल में निर्मित की जाने वाली दुकानों का मुख सड़क की तरफ रखे जाने का निर्णय भी लिया गया।  संभागीय आयुक्त श्री एम बी ओझा ने बैठक में यह भी कहा कि सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल के लिए चिकित्सक एएनएम एवं अन्य पदों की भर्ती का कार्य भी तत्परता से हो, इसके लिए कार्रवाई तेजी से की जाए। इसके साथ ही ग्वालियर, जबलपुर और रीवा में बनाए जा रहे सुपर स्पेशिलिटी अस्पतालों में दरें समान हों, इसका एक प्रस्ताव भी मेडीकल कॉलेज की ओर से तैयार कर शासन को भेजा जाए, ताकि प्रदेश के सभी सुपर स्पेशिलिटी अस्पतालों में दरें एक समान हो सकें।
    बैठक में सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल के अधीक्षक डॉ. गिरिजा शंकर गुप्ता ने अस्पताल के निर्माण एवं व्यवस्थाओं के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि अस्पताल के निर्माण के ज्यादातर कार्य पूर्ण हो गए हैं। थर्ड पार्टी स्पेक्शन का कार्य शेष है। इसके साथ ही हाईट कंपनी और केन्द्र की एचएससीसी के माध्यम से फिनिशिंग के कुछ कार्य लंबित हैं। इसके लिए दिल्ली स्तर पर भेजे गए प्रस्ताव लंबित हैं। जिनकी स्वीकृति के पश्चात कार्य पूर्ण किए जा सकेंगे।
    संभागीय आयुक्त श्री एम बी ओझा ने डीन मेडीकल कॉलेज एवं अन्य चिकित्सकों के साथ अस्पताल परिसर का निरीक्षण भी किया। इसके साथ ही अस्पताल के पीछे की साईड निर्मित किए जा रहे नाला निर्माण के कार्य को भी देखा तथा कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए।ग्वालियर में स्वास्थ्य सेवाओं की बेहतर व्यवस्थाओं के लिए केन्द्र सरकार एवं प्रदेश सरकार के सहयोग से सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल के निर्माण का कार्य अंतिम चरण में है। अस्पताल के शेष रहे सभी कार्यों को एक माह में पूर्ण करने के निर्देश संभागीय आयुक्त श्री एम बी ओझा ने दिए हैं। संभाग आयुक्त श्री एम बी ओझा ने शुक्रवार को सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल का निरीक्षण किया। चिकित्सकों और निर्माण एजेन्सी के लोगों से चर्चा कर निर्माण के शेष कार्य को शीघ्र पूर्ण करने के निर्देश दिए।
    संभागीय आयुक्त श्री एम बी ओझा ने सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल की व्यवस्थाओं के संबंध में भी विस्तार से चर्चा कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए हैं। इस मौके पर डीन मेडीकल कॉलेज डॉ. सरोज कोठारी, एडीएम श्री किशोर कान्याल, प्रभारी अधीक्षक डॉ. के के तिवारी, अधीक्षक सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल डॉ. गिरिजा शंकर गुप्ता, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मृदुल सक्सेना, सहायक अधीक्षक डॉ. विनीत चतुर्वेदी, निर्माण एजेन्सी, एचएससीसी के सिविल वर्क कांट्रेक्टर श्री अनिल पाण्डे उपस्थित थे।
    संभागीय आयुक्त श्री एम बी ओझा ने बैठक के दौरान कहा कि अस्पताल में फिनिशिंग के जो भी कार्य शेष बचे हैं उन्हें शीघ्र पूर्ण किया जाए। उन्होंने उपकरणों की स्थापना तथा स्टाफ की नियुक्ति और दुकानों के निर्माण के संबंध में भी विस्तार से चर्चा की। संभागीय आयुक्त श्री एम बी ओझा ने बैठक में कहा कि सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों के लिए ओपीडी शुल्क 50 रूपए‍ निर्धारित किया गया है। अन्य अस्पतालों से रेफर होकर आने वाले मरीजों के लिए यह शुल्क 30 रूपए किया जाए। इसके साथ ही गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले मरीजों और आयुष्मान योजना के अंतर्गत आने वाले मरीजों के लिए यह नि:शुल्क रखा जाए। सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल में सीधे आने वाले मरीजों के लिए ओपीडी शुल्क 50 रूपए की रखा जाए।
    संभागीय आयुक्त श्री एम बी ओझा ने बैठक में यह भी कहा कि सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल में एक्सरे का शुल्क 20 रूपए ही रखा जाए। उन्होंने कहा कि माधव डिस्पेंसरी में नि:शुल्क एक्सरे की सुविधा होने पर यह देखा गया है कि 2 हजार से अधिक लोगों ने एक्सरे कराने के बाद अपनी रिपोर्ट भी प्राप्त नहीं की है। इसको देखते हुए सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल में एक्सरे की दर 20 रूपए ही रखी जाना तय किया गया है। उन्होंने बैठक में सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल की सुरक्षा के लिए 30 सुरक्षा गार्ड को रखने की सहमति भी प्रदान की। इसके साथ ही पार्किंग व्यवस्था को और बेहतर करने के निर्देश दिए। बैठक में सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल के पीछे की साईट निर्माणाधीन नाले का कार्य स्मार्ट सिटी के माध्यम से किया जाना है। इसके लिए सीईओ स्मार्ट सिटी को कार्य तत्परता से कराने के निर्देश जारी करने को कहा।
    बैठक में सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल में निर्मित की जाने वाली दुकानों का मुख सड़क की तरफ रखे जाने का निर्णय भी लिया गया।  संभागीय आयुक्त श्री एम बी ओझा ने बैठक में यह भी कहा कि सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल के लिए चिकित्सक एएनएम एवं अन्य पदों की भर्ती का कार्य भी तत्परता से हो, इसके लिए कार्रवाई तेजी से की जाए। इसके साथ ही ग्वालियर, जबलपुर और रीवा में बनाए जा रहे सुपर स्पेशिलिटी अस्पतालों में दरें समान हों, इसका एक प्रस्ताव भी मेडीकल कॉलेज की ओर से तैयार कर शासन को भेजा जाए, ताकि प्रदेश के सभी सुपर स्पेशिलिटी अस्पतालों में दरें एक समान हो सकें।
    बैठक में सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल के अधीक्षक डॉ. गिरिजा शंकर गुप्ता ने अस्पताल के निर्माण एवं व्यवस्थाओं के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि अस्पताल के निर्माण के ज्यादातर कार्य पूर्ण हो गए हैं। थर्ड पार्टी स्पेक्शन का कार्य शेष है। इसके साथ ही हाईट कंपनी और केन्द्र की एचएससीसी के माध्यम से फिनिशिंग के कुछ कार्य लंबित हैं। इसके लिए दिल्ली स्तर पर भेजे गए प्रस्ताव लंबित हैं। जिनकी स्वीकृति के पश्चात कार्य पूर्ण किए जा सकेंगे।
    संभागीय आयुक्त श्री एम बी ओझा ने डीन मेडीकल कॉलेज एवं अन्य चिकित्सकों के साथ अस्पताल परिसर का निरीक्षण भी किया। इसके साथ ही अस्पताल के पीछे की साईड निर्मित किए जा रहे नाला निर्माण के कार्य को भी देखा तथा कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए।