प्रदेश में 800 आंगनबाड़ी केन्द्रों को अपग्रेड कर बाल शिक्षा केन्द्र के रूप में विकसित किया जायेगा – मंत्री श्रीमती इमरती देवी
February 7, 2020 • M.S.Bishotiya
 
 किसान फसल ऋण माफी योजना के तहत 1386 कृषकों को 8 करोड़ 36 लाख के ऋण माफ हुए
राष्ट्रीय कृत बैंकों के लिए ऋण माफ नहीं ,सोसाइटी से लिए  ऋण हुए हैं माफ।
 
 
 
 
डबरा/पिछोर ।प्रदेेशकी महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती इमरती देवी ने कहा कि प्रदेश में प्रथम चरण में 313 आंगनबाड़ी केन्द्रों को बाल शिक्षा केन्द्र के रूप में विकसित किया गया है। इन केन्द्रों की सफलता को देखते हुए द्वितीय चरण में प्रदेश में 800 आंगनबाड़ी केन्द्र बाल शिक्षा केन्द्र के रूप में संचालित किए जायेंगे। मंत्री श्रीमती इमरती देवी शुक्रवार को डबरा विधानसभा क्षेत्र के तहत कृषि उपज मंडी समिति पिछोर के प्रांगण में आयोजित जय किसान फसल ऋण माफी योजना और आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के तहत आयोजित संयुक्त शिविर को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित कर रही थीं।
कार्यक्रम की अध्यक्षता कांग्रेस कमेटी ग्रामीण के अध्यक्ष श्री मोहन सिंह राठौर ने की। पूर्व विधायक श्री मदन कुशवाह, कलेक्टर श्री अनुराग चौधरी, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री शिवम वर्मा, वन मण्डलाधिकारी श्री अभिनव पल्लव, एसडीएम डबरा विशेष रूप से उपस्थित थे।महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती इमरती देवी ने शिविर में जय किसान फसल ऋण माफी योजना के तहत एक हजार 386 किसानों को 8 करोड़ 36 लाख के ऋण माफी के प्रमाण-पत्र प्रदाय कर शासन की विभिन्न हितग्राहीमूलक एवं जन कल्याणकारी योजनाओं के तहत हितग्राहियों को भी लाभान्वित किया।मंत्री श्रीमती इमरती देवी ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश सरकार द्वारा महिलाओं एवं बच्चों के कल्याण के क्षेत्र में किए जा रहे बेहतर कार्यों के लिए राष्ट्रीय स्तर पर प्रदेश को प्रथम पुरस्कार प्राप्त हुआ है। इस पुरस्कार को प्राप्त करने में डबरा विधानसभा क्षेत्र के प्रत्येक नागरिक के साथ-साथ महिला एवं बाल विकास विभाग के सभी अधिकारियों व कर्मचारियों का विशेष योगदान रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश को तीन पुरस्कार प्राप्त करने पर मध्यप्रदेश सहित ग्वालियर जिला एवं डबरा का नाम भी राष्ट्रीय स्तर पर गौरवान्वित हुआ है।
 महिला एवं बाल विकास मंत्री ने कहा कि उन्हें इसी प्रकार का आगे भी सहयोग मिलता रहेगा। जिससे वे राष्ट्रीय स्तर पर क्षेत्र का नाम रोशन करती रहेंगीं। उन्होंने कहा कि डबरा में 100 बिस्तरों के चिकित्सालय के लिए भूमि चयन की कार्रवाई शीघ्र कर चिकित्सालय का कार्य शुरू किया जायेगा। उन्होंने कहा कि नहर के माध्यम से पिछोर की जनता को भी पानी उपलब्ध कराया जायेगा। इसी प्रकार बिलौआ के लदेरा डैम का कार्य भी शुरू किया जायेगा। मंत्री श्रीमती इमरती देवी ने कहा कि महिलाओं व बच्चों के कल्याण के क्षेत्र में बेहतर कार्य करने वाली जनपदों को भी पुरस्कृत किया जायेगा। उन्होंने लोगों से कहा कि आंगनबाड़ी केन्द्रों में आने वाले बच्चों के लिए पुस्तकें एवं खिलौनों हेतु एक खिलौना बैंक की स्थापना की जायेगी। जिसमें कोई भी व्यक्ति कक्षा-1 से 5 तक के बच्चों के लिए पुस्तकें और खिलौने भेंट कर सकेगा। जिन्हें केन्द्र में आने वाले बच्चे उपयोग कर सकेंगे।
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए श्री मोहन सिंह राठौर ने कहा कि प्रदेश की महिला एवं बाल विकास मंत्री की सूझबूझ एवं योजनाओं के बेहतर क्रियान्वयन के कारण ही आज प्रदेश में कुपोषण में कमी आई है। महिला एवं बाल विकास मंत्री की लगन, मेहनत एवं योजनाओं की सतत समीक्षा के कारण राष्ट्रीय स्तर पर प्रदेश को एक नहीं बल्कि तीन पुरस्कार प्राप्त हुए हैं।कलेक्टर श्री अनुराग चौधरी ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों का प्रयास रहेगा कि महिलाओं एवं बच्चों के कल्याण के क्षेत्र में ग्वालियर प्रदेश में प्रथम स्थान प्राप्त करे। उन्होंने कहा कि महिला एवं बाल विकास, स्वास्थ्य एवं श्रम विभाग की योजनाओं के लाभ से गर्भवती महिलायें वंचित न रहें। इसके लिए महिला के गर्भ के चौथे माह में ही पंजीयन कर सभी आवश्यक कार्रवाई पूर्ण कराई जाये। जिससे प्रसव उपरांत तत्काल उन्हें शासन की विभिन्न योजनाओं का लाभ प्राप्त हो सके और समय पर टीकाकरण भी हो सके।कार्यक्रम में पूर्व विधायक श्री मदन सिंह कुशवाह ने कहा कि महिला एवं बाल विकास मंत्री की लगन एवं मेहनत के कारण ही प्रदेश को राष्ट्रीय स्तर पर तीन पुरस्कार प्राप्त हुए, जो जिले के लिए गौरव की बात है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने शपथ लेने के तत्काल बाद किसानों के ऋण माफी की घोषणा की थी। जिसके तहत आज किसानों को फसल ऋण माफी योजना का लाभ दिया गया है।कार्यक्रम को श्री वृंदावन बघेल, श्रीमती पुष्पा सरवनी, श्री रविन्द्र शर्मा आदि ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम के शुरू में किसान कल्याण एवं कृषि विकास के उपसंचालक डॉ. आनंद बड़ोनिया ने जय किसान फसल ऋण माफी योजना की विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि जय किसान फसल ऋण माफी योजना के तहत जिले में प्रथम चरण में 24 हजार 516  कृषकों को 57 करोड़ का ऋण माफ किया जा चुका है। जिले में जय किसान फसल ऋण माफी योजना के तहत द्वितीय चरण में 4 हजार 389 कृषकों का 28 करोड़ रूपए का ऋण माफ करने की स्वीकृति दी जा चुकी है।शिविर में आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के तहत मुख्यमंत्री आवास योजना के अंतर्गत 54 हितग्राहियों को, फलोद्यान विभाग द्वारा 5 कृषकों को ड्रिप, फल एवं सब्जी क्षेत्र विस्तार के लिए, नगर परिषद पिछोर द्वारा विभिन्न पेंशन योजनाओं के तहत 15 हितग्राहियों को, जनपद पंचायत डबरा द्वारा 6 हितग्राहियों को विभिन्न पेंशन योजनाओं एवं दुर्घटना से परिवार के मुखिया की मृत्यु होने पर परिजनों को आर्थिक सहायता प्रदाय की गई। इसी प्रकार दीनदयाल अंत्योदय योजना ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत 22 स्व-सहायता समूहों को 12 लाख 31 हजार की राशि प्रदाय की गई। मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के तहत ग्राम जनकपुर के श्री शेर सिंह मौर्य को 5 लाख रूपए लागत का माल वाहक वाहन प्रदाय किया गया।