दमोह तेन्दूखेड़ा का मामला जहां पर बड़े समूह के दैनिक अखबार के पत्रकार दुवे ने सूचना के अधिकार के तहत  जानकारी न देने के बदले की 20 हजार की मांग। विशाल रजक दमोह संवाददाताPMKNEWS
January 4, 2020 • M.S.Bishotiya

*ग्राम पंचायत जामुनखेड़ा के सरपंच सचिव ने तेन्दूखेड़ा थाना प्रभारी को सौंपी लिखित शिकायत*

विशाल रजक दमोह संवाददाता
9630278207
जिला दमोह। तेन्दूखेड़ा जनपद पंचायत के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत जामुनखेड़ा जहां के सरपंच और सचिव ने शनिवार को तेन्दूखेड़ा थाना प्रभारी को एक आवदेन के साथ सीडी सौपी है जिसमें उन्होंने तेन्दूखेड़ा नगर के एक युवक जो दैनिक अखबार का पत्रकार है जिसने ग्राम पंचायत  में कुछ संबंध में जानकारी न मागने के रूप में बीस हजार रुपए की मांग कर रहा है आपको बता दें तेन्दूखेड़ा जनपद पंचायत में आने वाली ग्राम पंचायत जामुनखेड़ा के सरपंच सचिव द्वारा कुछ संबंध में सूचना के अधिकारी के तहत जानकारी मांगी गई थी जिसकी जानकारी पंचायत के कर्मचारी देने के लिए तैयार है और जिस तारीख में जानकारी देने की तिथि थी उस दिन आवदेक ग्राम पंचायत नहीं आया जिसके बाद आवदेक द्वारा ग्राम पंचायत के रोजगार सहायक फोन पर बात की ओर कहा कि मुझे जानकारी कब तक मिलेगी जिस पर रोजगार सचिव ने आवदेक से कहा कि मेने जानकारी जनपद पंचायत में दे दी है 
*आवदेक बीस हजार की कर रहा है मांग*
सूचना के तहत जानकारी मागने पर आवदेक द्वारा मामला निपटाने के तहत पैसों की मांग की गई  जिसकी सचिव द्वारा आडियो रिकार्डिंग कर ली है जिसके चलते शनिवार को ग्राम पंचायत जामुनखेड़ा के रोजगार सचिव राजेंद्र केवट द्वारा थाने में आ कर एक आवदेक के खिलाफ थाना प्रभारी को आवदेन सौंपा है उसके साथ एक सीडी भी पुलिस को सौंपी है जिसमें उन्होंने वह बातचीत भी रिकॉर्ड की है जिसमें सूचना के अधिकार के तहत जानकारी न मिलने पर आवदेक द्वारा बीस हजार रुपए की मांग कर रहा है
*क्या है पूरा मामला*
तेन्दूखेड़ा जनपद पंचायत के अंर्तगत आने वाली ग्राम पंचायत जामुनखेड़ा के रोजगार सचिव राजेंद्र केवट ने बताया कि जून माह में तेन्दूखेड़ा निवासी एवं दैनिक अखबार के पत्रकार अरुण दुबे ने ग्राम पंचायत जामुनखेड़ा में सूचना के अधिकार के तहत जानकारी मांगी थी जिसकी नियम अनुसार आवदेक को जानकारी के बदले फ़ोटो काफी की राशि जमा करनी होती है जब राशि जमा करने के संबंध में जानकारी दी तो उसने जानकारी न लेने के एवज में बीस हजार की मांग की जिसकी शिकायत तत्कालीन जनपद पंचायत सीईओ से भी की थी जिन्होंने कार्यवाही हेतु थाना प्रभारी को लिखा था
*पांच हजार तो तुम्हारी सीईओ देते हैं मासिक हमें*
रोजगार सचिव ने शनिवार को जो रिकार्डिंग थाना प्रभारी को सौपी है उसमें रोजगार सचिव से जब आवदेक से कहा कि जानकारी मेरे पास है तुम आकर ले ले जिस पर आवदेक ने कहा कि तुम खुद परेशान हो रहे हो कुछ दे दो जिसमें रोजगार सहायक ने कहा में पांच हजार दूगां जिस पर आवदेक बोल रहा है कि उतने तो हमें प्रति माह जनपद पंचायत सीईओ देते हैं तुम बीस कर देना भले ही दो किस्तों में दो जिसकी रोजगार सहायक ने पूरी बात अपने फोन में रिकार्डिंग भी कर ली थी जिसकी आज थाना प्रभारी को पूरी बात की रिकार्डिंग की सीडी बनाकर दी है
*इनका कहना*
जब इस संबंध में थाना प्रभारी इंद्रा ठाकुर का कहना है कि मेरे पास आवदेन आया है जिसकी जांच कराई जाएगी
*सहायक सचिव का कहना*
जब संबंध में ग्राम पंचायत जामुनखेड़ा के सहायक सचिव राजेंद्र केवट का कहना है आवदेक को जानकारी देने के लिए जब बुलाया जाता है पंचायत नहीं आता है और जानकारी के बदले पैसों की मांग करता है जिसकी आज मेने शिकायत की है और आवदेक द्वारा पैसों की मांग की रिकार्डिंग थाना प्रभारी को सीडी के माध्यम से दी है
*जनपद सीईओ का कहना*
वही पूरे मामले में तेन्दूखेड़ा जनपद पंचायत सीईओ रानू जैन का कहना है कि मुझे महीने भर पहले रोजगार सहायक द्वारा ब्लेकमेलिंग की बात से अवगत कराया था पर मेने रिकार्डिंग नहीं सुनी थी आज सुनी है जिस तरह युवक सूचना के अधिकार के नियम के बदले पैसे मांग रहा है वह गलत है इस पर कार्रवाही होनी चाहिए और थाने शिकायत दर्ज की।p