डबरा। शहरपूर्ण लॉकडाउन में भी तहसीलदार के बंगले पर जरूरत मंद महिलाओं का धरना।
April 3, 2020 • M.S.Bishotiya

 

पूर्ण लॉकडाउन में भी तहसीलदार के बंगले पर जरूरत मंद महिलाओं का धरना।

गरीब तबके की कालोनीवासी अयोध्या कॉलोनी, इटवा होटल के पीछे , अंबेडकर कालोनी जाटव बरसती, लक्षमानपुरा,इकरार जो में रोड पर रहते हैं।, पिछोर तिराहे से आगे ग्वालियर रोड स्थित, दीदार कालोनी,सोसाकाचक, रामगढ़, दाफाईभितरवाररोड, कई लोग तो किराएदार है जो रोज कमाते हैं शाम को परिवार का पेट भरने वाले हैं।


डबरा। शहर में लाकडाउनके दौरान भी दर्जनों महिलाओं ने डबरा तहसीलदार नवनीत शर्मा के बंगले के बाहर धरना दिया महिलाओं का कहना था कि उनके घरों पर खाने-पीने का राशन नहीं है वही बंद होने से उनके पति जो रोज मेहनत मजदूरी कर कमाते थे वह भी बंद हो गई है शासन की तरफ से अभी तक उन्हें कोई व्यवस्था नहीं की गई है इसलिए वह यहां तहसीलदार नवनीत शर्मा के यहां आई हैं लेकिन यहां पर भी कोई अधिकारी उनकी फरियाद सुनने बाला नहीं दिख रहा है। वही समूह में आई महिलाओ में सामाजिक दूरी का अभाव दिखा जिस को बनाए रखने के लिए देश के प्रधान मंत्री बार बार जनता से अपील कर रहे है।गौरतलब है कि बंद के दौरान डबरा की जनता और समाजसेवी बढ़-चढ़कर जन सहयोग के लिए आगे आ रहे हैं ऐसे ही एक समाजसेवी चिंटू तोमर की नजर जब इन धरना दे रही महिलाओं पर पड़ी तब चिंटू तोमर ने ही उन्हें उनके घर तक खाना पहुंचाने का आश्वासन दिया जैसा कि समाजसेवी चिंटू तोमर ने बताया कि लगभग 80 परिवार हैं जिन्हें खाना पहुंचाना है अभी तक यह उनकी जानकारी में नहीं थे अब जब तक शासन की तरफ से इन्हें मदद नहीं मिल जाती हमारे द्वारा इनके घरों पर भी खाना पहुंचाया जाएगा वहीं तोमर ने यह भी बताया है कि उन्होंने नगर पालिका सीएमओ से बात कर इन सभी महिलाओं को इन्हीं के वार्ड की राशन दुकान से राशन दिलवाने की भी अनुमति मिल गई है जो इन्हें कल से दिलवा दिया जाएगा जब तक इनके पास खाने-पीने को नहीं है हम लोग इनकी व्यवस्था करते रहेंगे।    


यहाँ पर गौर किया जाए तो बड़ी बात यहां यह रही कि धरना दे रही इन महिलाओं की समस्या सुनने कोई प्रशासन का अधिकारी नहीं बल्कि समाजसेवी आगे आए और महिलाओं ने अपना धरना खत्म किया जब मीडिया के लोगों   ने  तहसीलदार नवनीत शर्मा से मोबाइल पर जानकारी ली गई तो उनका कहना था की उन्हें महिलाओं के आने की ना ही धरने की कोई जानकारी नहीं है।